Saturday, 12 December 2015

कविता- मेरा परिचय

Poetry of Ram Lakhara


सागर से परित्यक्त   होकर  भी 
जीवन  का   नव    नाद  फूंकता
कोलाहल   के   दुरूह    दौर   में
अनहद   एक   आवाज   घोलता।

बिछड़न  का  हूं  प्रथम  स्वर मैं
प्रथम  शब्द  हूं  बिरह  गीत  का
प्रथम  प्रमाण  हूं  पल  भर में ही
मिटने  वाली  क्षणिक  प्रीत  का।

अधिक  नहीं  है   मेरा  परिचय 
कभी  राजा  रहा    अब  रंक   हूं
प्रिय  मिलन   की  राग   छेड़ता
चिर   विरह   लिप्त  मैं  शंख हूं।

                                                     -राम लखारा 'विपुल'

join us on facebook...